पुस्तक मेले में ’गांधी द साइलेंट गन’ फिल्म का प्रदर्शन - प्रबल सृष्टि - मध्य प्रदेश के कटनी जिले का समाचार पत्र

प्रबल सृष्टि - मध्य प्रदेश के कटनी जिले का समाचार पत्र

अज्ञानता अंधकार की निशानी है - ज्ञान उजाले का - कटनी जिले का समाचार पत्र - संपादक - मुरली पृथ्यानी

Hot

Wednesday, October 25, 2017

पुस्तक मेले में ’गांधी द साइलेंट गन’ फिल्म का प्रदर्शन

कटनी / जिला प्रशासन द्वारा आयोजित कटनी पुस्तक मेले में चौथे दिन मंगलवार को शाम फिल्म प्रदर्शन एवं पुस्तक परिचर्चा का आयोजन किया गया। इस दौरान ’गांधी द साइलेंट गन’ फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया। जिसे उपस्थितजनों ने सराहा भी। ’बुक-टॉल्क’ में महात्मा गांधी द्वारा लिखित ’सत्य के प्रयोग अथवा आत्मकथा’ पुस्तक पर परिचर्चा हुई। पुस्तक परिचर्चा में गांधी वादी साहित्यकार एवं विचारक आमंत्रित थे। जिसमें प्रमुख रुप से नंदलाल सिंह, जनवादी लेखक संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष सुसंस्कृति परिहार, ठाकुर राजेंद्र सिंह, अरविंद वर्मा, परमानंद कुररिया, मोहन नागवानी एवं राजेन्द्र असाटी थे।
फिल्म प्रर्दशन के चरण में महात्मा गांधी के जीवन के अंतिम दिन पर केद्रित फिल्म और उसमें गांधीजी के मनःस्थिति का सुंदर चित्रण किया गया। इस अवसर पर विशेष आकर्षण के रूप में फिल्म के मुख्य पात्र जिन्होंने रील लाईफ में गांधी का रोल किया सुरेंद्र राजन उर्फ काकू मौजूद थे। उन्होंने उपस्थित श्रोताओं से अपने अनुभव साझा करते हुये बताया कि गांधी का अभिनय करना सामान्य बात नहीं थी। उसके लिए उन्हें काफी तैयारी करनी पड़ी जो उन्होंने गांधी जी द्वारा लिखित विभिन्न पुस्तकों को पढ़ा भी।
उल्लेखनीय है कि श्री राजन उर्फ काकू मध्य प्रदेश की जमीन के एक बहुआयामी कलाकार हैं। जो विश्व स्तरीय फोटोग्राफर हैं। बर्ड्स के जानकार हैं। उन्होने डिस्कवरी चैनल के लिए लगभग ढाई वर्षों तक बांधवगढ़ में फोटोग्राफी की है। पेन्टर हैं, मूर्तिकार है। काकू के द्वारा बनाई हुई मूर्तियां मुंबई के दो मुख्य चौराहों पर स्थापित में हैं। कवि हैं, कहानीकार हैं। फिल्म कलाकार है, थिएटर आर्टिस्ट है। श्री राजन ने 100 से भी अधिक फिल्मों में अभिनय किया है। जिसमें से 12 फिल्मों में उन्होंने गांधी की भूमिका अदा की है। इनमें सबसे प्रमुख है ’’लीजेंड ऑफ भगत सिंह’’ जिसमें उन्होंने अजय देवगन के साथ काम किया है।
जिला प्रशासन की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में जिला पंचायत के सीईओ फ्रैंक नोबेल नोबेल, डीआईओ प्रफुल्ल श्रीवास्तव, प्रभारी महिला एवं बाल विकास अधिकारी इंद्र भूषण तिवारी, बीआरसी विवेक दुबे द्वारा आमंत्रित जनों का स्वागत किया गया।
इस दौरान श्रीराम सेंगर, मनीष गेई, वंदना गुगलिया, गोविंद  सचदेवा, जुगल मिश्रा, रजनी मिश्रा एवं अन्य बुद्धिजीवियों के साथ साथ भारत निर्माण कोचिंग के छात्र छात्राओं की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।. कार्यक्रम के अंत में अभिनेता सुरेंद्र राजन का जिला प्रशासन की ओर से श्री नोबल ने शाल श्रीफल भेंट कर सम्मान किया। सभी आमंत्रित जनों ने गांधी जी पर अपनी बातें सुंदर तरीके से प्रस्तुत की। पुस्तक परिचर्चा का समन्वय मोहन नागवानी द्वारा किया गया।

No comments:

Post a Comment